Wednesday, February 1, 2023
HomeIslamicIslam से जुड़ी 10 गलतफ़हमियाँ

Islam से जुड़ी 10 गलतफ़हमियाँ

Islam एक ऐसा धर्म है जिसमें अल्लाह ने जीवन के हर पहलू के बारे में स्पष्ट तरीके से पूरा मार्गदर्शन किया है। यही एकमात्र धर्म है जो शांति पर जोर देता है। यह प्रत्येक इंसान के साथ-साथ जानवरों को भी अधिकार देता है। इस्लाम जिन मानवाधिकारों की रक्षा करता है, वह हर नागरिक का जीवन और संपत्ति है, चाहे उसका धर्म कोई भी हो, चाहे वह मुस्लिम (Muslim) हो या न हो।

Table of Contents

Islam में मानव समानता अत्यधिक प्रमुख रूप से केंद्रित है और किसी को भी उनकी जाति, संपत्ति या शक्ति के कारण श्रेष्ठ या इष्ट नहीं माना जाता है। Racism जो कि आज की आधुनिक दुनिया की प्रमुख समस्या है, इस्लाम में पूरी तरह से समाप्त हो गया है। और इसका व्यावहारिक उदाहरण हर साल मक्का में वार्षिक तीर्थयात्रा पर देखा जा सकता है। जहां दुनिया भर के मुसलमान एक साथ आते हैं और बिना किसी भेदभाव के हज करते हैं। जहां दास और राजा एक साथ प्रार्थना करते हैं।

Islam पूर्ण न्याय का धर्म है जैसा कि कुरान में कहा गया है: “वास्तव में ईश्वर आपको उन को वापस देने का आदेश देते हैं जिनके वे हकदार हैं, और जब आप लोगों के बीच न्याय करते हैं, तो न्याय के साथ न्याय करें …”

Islam myths

लेकिन आजकल पूरी दुनिया में न जाने Islam के बारे में कई भ्रांतियाँ (मिथक) फैली हुई हैं, पूरे सोशल मीडिया पर Islam से जुड़ी लोगी की गलतफ़हमियाँ आम हो गई हैं, कुछ लोग इस्लाम को जान बुझ कर बदनाम करने की कोशिश में लगे हुए हैं, सोशल मीडिया पर कई तरह की गलत बात फैलाई जा रही है जिससे जो लोग इस्लाम को डीटेल से नहीं जानते हैं वो लोग भी इसे सच मान कर Islam को गलत समझ रहें हैं। नीचे लिखी हुई Islam से जुड़ी लोगी की 10 गलतफ़हमियाँ को बताया गया है जिसे पढ़कर सबकी गलतफहमियाँ दूर हो जाएंगी।

 

Islam से जुड़ी लोगी की 10 गलतफ़हमियाँ

Islam के बारे में कई मिथक प्रचलित हैं। मैं उनमें से 10 के बारे में बात करूंगा, जो सोशल मीडिया की दुनिया में सबसे ज्यादा प्रचलित हैं। इस लेख को पूरा पढ़ें और समझें की Islam से जुड़ी मिथक और गलतफ़हमियाँ को किस तरह गलत तरीके से फैलाया गया है।

10 – महिलाएं तलाक नहीं दे सकती हैं और शादी के लिए दहेज देना पड़ता है

Islam में महिलाओं को भी विवाह को तोड़ने की पूरी आजादी है, पत्नी या तो पति से तलाक के लिए अनुरोध कर सकती है या यदि पति मना कर देता है और पत्नी के पास तलाक (खुला) लेने का पूरा अधिकार है।

दहेज के लिए लड़की वालों से पूछना भारत-पाक उपमहाद्वीप में एक आम प्रथा है। लेकिन दहेज के लिए पूछना इस्लाम में पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है, अगर कोई दहेज लेता है तो वो उसके खुद की सोच है जबकि वास्तव में Islam में पति को ही  अपनी पत्नी को ‘मेहर’ नामक वैवाहिक उपहार की राशि देनी होती है।

9 – इस्लाम महिलाओं को परदे के पीछे रहने को कहता है, लेकिन पुरुषों को कोई हुक्म नहीं

आम तौर पर लोग महिलाओं के लिए हिजाब के बारे में बात करते हैं, लेकिन अल्लाह ने अल-कुरान 24:30 में सबसे पहले पुरुषों के लिए हिजाब के बारे में बात करता है कि अगर कोई पुरुष किसी महिला को देखता है और उसके दिमाग में कोई निर्लज्ज विचार आता है, तो उसे अपनी निगाहें नीची कर लेनी चाहिए।

आत्म-संयम की बात करने के बाद, अल्लाह अगली आयत अल-कुरान 24:31 में हिजाब के बारे में बात करता है कि महिलाओं को शालीनता से कपड़े पहनने चाहिए, पूरे शरीर को ढंकना चाहिए और जो कुछ देखा जा सकता है वह केवल चेहरा और कलाई तक हाथ हैं। Islam में पुरुष को अपनी निगाह नीची रखने और औरतों को परदे में रहने को कहा गया है।

8 – इस्लाम में बलात्कार को साबित करने के लिए 4 गवाहों की आवश्यकता होती है और बलात्कार पीड़िता को ज़िना के लिए दंडित किया जाता है

कुरान कहता है, “और जो लोग पवित्र महिलाओं के खिलाफ आरोप लगाते हैं, और चार गवाह पेश नहीं करते हैं (अपने आरोपों का समर्थन करने के लिए), – उन्हें अस्सी कोड़े मारो और उनकी गवाही को हमेशा के लिए खारिज कर दो: ऐसे पुरुष दुष्ट अपराधी हैं; -” (अल-कुरान 24:4)

इसलिए अगर कोई किसी महिला पर व्यभिचार (ज़िना) का आरोप लगाता है, तो आरोप लगाने वाले को इसे साबित करने के लिए 4 गवाह लाने होंगे या नहीं तो आरोप लगाने वाले को 80 कोड़े मारे जाएंगे। इसलिए 4 गवाह बलात्कार साबित करने के लिए नहीं हैं, बल्कि चार गवाहों की आवश्यकता महिलाओं को झूठे आरोप से बचाने के लिए है। बलात्कार के मामले में पीड़िता की गवाही, परिस्थितिजन्य साक्ष्य और बलात्कार साबित करने वाली मेडिकल रिपोर्ट ही काफी होती है।

रेप पीड़िता को सजा नहीं होती। जब एक बलात्कार पीड़िता किसी पुरुष के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज करती है, तो महिला पर व्यभिचार का आरोप नहीं लगाया जा सकता है और व्यभिचार के लिए दंडित नहीं किया जा सकता है।

7 – इस्लाम ऑनर किलिंग को बढ़ावा देता है

इस्लाम पूरी तरह से ऑनर किलिंग के खिलाफ है और अगर कोई पुरुष ऑनर किलिंग के नाम पर किसी महिला की हत्या करता है तो इस्लाम में उस व्यक्ति को मौत की सजा दी जाती है।

6 – Islam में महिलाओं को शादी के लिए मजबूर किया जाता है

इस्लाम में कोई भी महिला को उसकी मर्जी के खिलाफ निकाह (Marriage) के लिए मजबूर नहीं कर सकता, यहां तक कि उसके पिता को भी नहीं। शादी तभी हो सकती है जब महिला और पुरुष दोनों स्वेच्छा से सहमत हों। और अगर कोई किसी महिला को शादी के लिए मजबूर करता है, तो वह इस्लाम जज के पास जा सकती है, जो शादी को अमान्य कर देगा।
क्योंकि सही बुखारी खंड 7 पुस्तक 62 संख्या 69 में एक हदीस में उल्लेख किया गया है कि एक बार एक महिला पैगंबर मुहम्मद (SAL) के पास आई और कहा कि उसके पिता ने उसकी मर्जी के खिलाफ उसे शादी के लिए मजबूर किया है और पैगंबर ने शादी को अमान्य कर दिया था। इसलिए बिना Islam में बिना लड़की की इच्छा के जबरदस्ती शादी नहीं हो सकती।
Islam Detail

 

5 – इस्लाम पूजा करने के लिए गैर मुसलमानों के अधिकारों को अधीन करता है

इस्लाम गैर मुस्लिमों के पूजा स्थलों की रक्षा करना अनिवार्य बनाता है। इस्लाम गैर मुस्लिमों को उनके धर्म में आवश्यकतानुसार पूजा करने का पूर्ण अधिकार देता है। इस्लाम किसी भी देवी या देवता को गाली देने से भी मना करता है जिसकी वे पूजा करते हैं। जैसा कि कुरान सूरा अनम अध्याय 6 की आयत 108 में कहता है, “उन्हें गाली मत दो जिन्हें वे अल्लाह के अलावा पूजते हैं, ऐसा न हो कि वे अज्ञानता में अल्लाह की निंदा करें।” इस्लाम सभी को शांति से रहने और जीने का अधिकार देता है।

4 – इस्लाम महिलाओं को समान अधिकार नहीं देता है

इस्लाम में, पुरुष और महिला समान हैं, लेकिन समान नहीं हैं। कुछ मामलों में महिलाओं को कुछ हद तक फायदा होता है जबकि अन्य मामलों में पुरुषों को कुछ हद तक फायदा होता है। मिसाल के तौर पर, इस्लाम में महिलाओं को बच्चों से ज्यादा प्यार और करुणा मिलती है, तो यह महिलाओं के लिए एक हद तक फायदे की बात है। जबकि अल्लाह ने पुरुषों को अधिक शक्ति दी है; इसलिए ताकत में पुरुषों के पास एक हद तक फायदा होता है।
इस्लाम ने महिलाओं को मतदान का अधिकार दिया, अपनी संपत्ति का मालिक होने का अधिकार दिया, यहाँ तक की लड़की को उसके माता पिता की संपत्ति पर भी हिस्सा लेने का अधिकार दिया है। साथ साथ काम करने का भी अधिकार दिया और इस्लाम यह अनिवार्य करता है कि यदि एक महिला एक पुरुष के समान काम करती है, तो उसे भी पुरुष के समान वेतन मिलना चाहिए। इस्लाम ने 14 शताब्दी पहले महिलाओं को ये सभी और कई अन्य अधिकार दिए थे, जबकि पूरी दुनिया ने हाल ही में महिलाओं को ये अधिकार दिए हैं। इसलिए देखा जाए तो इस्लाम कबूल करने वालों में दो तिहाई महिलाएं हैं।

3 – इस्लाम तलवार के बल पर फैला

इस्लाम के बारे में एक व्यापक मिथक यह है कि यह तलवार के बल पर फैलाया गया था, लेकिन लोग यह महसूस करने में विफल रहे कि मुस्लिम सेनाएं कई मुस्लिम बहुल क्षेत्रों और देशों में कभी नहीं गईं। उदाहरण के लिए, इंडोनेशिया में दुनिया की सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी रहती है और कोई भी मुस्लिम सेना इंडोनेशिया नहीं गई।
कुरान स्पष्ट रूप से कहता है, “धर्म में कोई मजबूरी नहीं है।” (अल-कुरान 2:256) और इसकी एक और मिसाल देखी जाए तो हिंदुस्तान (Hindustan) में मुसलमान यानि मुग़लों का कई सदियों तक राज रहा लेकिन फिर भी यहाँ पर मुस्लिमों की आबादी काफी कम है। कहने का मतलब ये है की Islam में धर्म को लेकर कोई जोर जबरदस्ती नहीं है, और ऐसा कहना की “इस्लाम तलवार के बल पर फैला” ये बिल्कुल बेबुनियाद है।

2 – इस्लाम आतंकवाद और निर्दोष इंसानों की हत्या का समर्थन करता है

Islam आतंकवाद (Terrorism) और किसी भी निर्दोष इंसान की हत्या के खिलाफ है। जैसा कि कुरान सूरा अल मैदाह चैप्टर 5 आयत 32 में कहता है, “यदि कोई किसी निर्दोष इंसान को मारता है, चाहे वह हत्या के लिए हो या भूमि में भ्रष्टाचार फैलाने के लिए हो, तो ऐसा लगता है कि उसने पूरी मानवता को मार डाला और अगर कोई बचा लेता है किसी भी मासूम इंसान की जान मानो उसने पूरी इंसानियत को बचा लिया।” मतलब यह कि अगर कोई इंसान किसी बेगुनाह इंसान को मारता है तो मानो पूरी इंसानियत को मार डाला। Islam एक शांतिप्रिय धर्म है और ये आतंकवाद और निर्दोषों की हत्या के खिलाफ है।

1 – जिहाद का अर्थ है पवित्र युद्ध या कोई भी युद्ध जो किसी मनुष्य द्वारा लड़ा गया हो

जिहाद का अर्थ ‘पवित्र युद्ध’ नहीं है, अरबी में ‘पवित्र युद्ध’ के लिए शब्द “हार्बन मुक़दसा” है, जो कुरान या नबी के किसी कथन में कहीं भी नहीं है। जिहाद का मतलब किसी मुसलमान द्वारा किसी भी कारण से लड़ा गया युद्ध नहीं है। जिहाद मूल शब्द “जहादा” से बना है, जिसका अर्थ है “प्रयास करना, संघर्ष करना”। यदि कोई अच्छे कारण के लिए प्रयास करता है, तो इसे “जिहाद फिसैबिल्लाह” कहा जाता है, जिसका अर्थ है “अल्लाह के मार्ग में जिहाद”

और यदि कोई बुरे कारण के लिए प्रयास करता है, तो इसे “जिहाद फी सबी शैतान” कहा जाता है, जिसका अर्थ है “शैतान के मार्ग में जिहाद” ” पवित्र क़ुरआन मुसलमानों को अल्लाह की राह में भलाई के लिए प्रयास करने की शिक्षा देता है। पवित्र कुरान में लड़ाई के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द “किताल” है। इस्लाम केवल आत्मरक्षा में और अत्याचार और अत्याचार के खिलाफ लड़ने की अनुमति देता है।

ये भी पढ़ें – 5 Best Journalists in India- बेस्ट पत्रकार

 

Conclusion

दोस्तों और भाइयों! कहने का मतलब ये है की कुछ राजनीतिक और कट्टरपंथी लोग अपने खुद के फायदे के लिए Islam के खिलाफ नफरत फैला रहे हैं जिनका सच्चाई से कोई लेना देना नहीं है और हम लोग इन लोगों की बातों में आकर आपस के अच्छे व्यवहार को खराब कर रहे हैं, हमें ऐसे बुरे लोगों की बातों में नहीं आना है। इस्लाम एक शांतिप्रिय धर्म है, इसे आप अच्छे से जानें और इसके बारे में कुछ भी राय बनाने से पहले इसके बारे में अच्छे से जान लें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

STAY CONNECTED

2,592FansLike
1,025FollowersFollow
1,540FollowersFollow
10,502SubscribersSubscribe